Ek Aawaaj

Just another Jagranjunction Blogs weblog

10 Posts

19 comments

Rudra Pratap Singh


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

कभी आसमाँ तो कभी जमीन देखी है

Posted On: 18 Mar, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others social issues मेट्रो लाइफ में

0 Comment

माँ धरती करे पुकार (contest)

Posted On: 27 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Hindi Sahitya Others कविता में

0 Comment

मुझे ठंड की हर रात पसन्द है- Contest

Posted On: 22 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Hindi Sahitya Others कविता में

4 Comments

भगवान – केवल एक ऊर्जा

Posted On: 15 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Hindi Sahitya Junction Forum Religious में

5 Comments

आत्मह्त्या – एक आत्मपराजय

Posted On: 3 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others social issues मेट्रो लाइफ में

3 Comments

कन्या भ्रूण हत्या – एक संकीर्ण मानसिकता

Posted On: 30 Aug, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

5 Comments

कन्या भ्रूण हत्या – एक संकीर्ण मानसिकता

Posted On: 30 Aug, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

Hello world!

Posted On: 30 Aug, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

में

1 Comment

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा: Rudra Pratap Singh Rudra Pratap Singh

के द्वारा:

के द्वारा: शालिनी कौशिक एडवोकेट शालिनी कौशिक एडवोकेट

के द्वारा: yatindranathchaturvedi yatindranathchaturvedi

इस दुनिया में कितने ही ऐसे लोगों के उदाहरण हैं जिन्होने शारीरिक-अक्षमता, पारिवारिक एवं सामाजिक बहिष्कार और अन्य दिक्कतों के बावजूद अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा लिया । स्टीफन हाँकिंग एक भौतिकविद एवं वैज्ञानिक हैं । वे एकमात्र ऐसे वैज्ञानिक हैं जो कि ब्लैक-होल्स और अंतरिक्ष के अकाट्य सिद्धांत प्रस्तुत कर चुके हैं और आज भी कर रहे हैं । आँखो के सिवाय उनका कोई शारीरिक अंग काम नही करता। पूरा शरीर पैरालाइज (लकवा) है । अमेरिका की 16 वर्षीय कन्या, ’काल्या व्हीलर’, के जन्म से ही दोनो पैर और एक हाथ नही है किन्तु उसने तैराकी के कई विश्व-रिकार्ड तोड़े हैं और आने वाले 2016 पैरालिम्पिक में हिस्सा लेने वाली है । ’पीटर लाँगस्टाफ’ के दोनों हाथ नही हैं और वो पैरों से पेंटिग (चित्रण) करते हैं । उनकी कई पेंटिंग्स पुरस्कृत एवं विश्व-प्रसिद्ध हो चुकी हैं । अमेरिका की प्रसिद्ध अदाकारा ’हैले बेरी’ को कौन नही जानता । फिल्म ’माँस्टर बाल्’ के लिये 2002 में उन्हे सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का ’अकादमी अवार्ड’ मिल चुका है । क्या आप जानते हैं कि वह एक ’डायबेटिक (टाइप-2)’ मरीज हैं और 1 हफ़्ता कोमा में रह चुकी हैं । ऐसे ही सैकड़ो उदाहरण हैं जिनको पढ़कर हम दांतो तले उँगली दबा लेंगे । एक उम्मीद जगाती सार्थक पोस्ट लिखी है आपने !

के द्वारा: yogi sarswat yogi sarswat

के द्वारा: शालिनी कौशिक एडवोकेट शालिनी कौशिक एडवोकेट




latest from jagran